सीपिया 200 के फायदे | Sepia 200 Uses in Hindi

यदि आप सीपिया 200 के फायदे के बारे में जानना चाहते हैं तो मैं आपको बता दूं कि सीपिया 200 एक गहरी क्रिया करने वाली होम्योपैथिक मेडिसिन है।

 

Sepia 200 ke fayde
Sepia 200 ke fayde

 

जिसका प्रयोग ज्यादातर स्त्रियों के गर्भाशय से सम्बंधित रोगों के इलाज में किया जाता है।

हालांकि यह लक्षण मिलने पर सीपिया 200 होम्योपैथिक दवा का उपयोग पुरुषों के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

जो महिलाएं देखने में दुबली-पतली और कोमल स्वभाव की होती हैं, जिनकी आँखें व बाल काले तथा रंग सांवला होता हैं।

जिन्हें जरा सी कोई बात कह देने पर रोने लगती हैं,जिनके नाक के दोनों तरफ घोड़े के जीन की तरह एक प्रकार का पीला दाग होता है।

जिनकी सारी तकलीफें ठंडी हवा या भीगने से बढ़ जाती है ऐसे लक्षण वाले रोगियों के इलाज में सीपिया 200 फायदा करती है।

सीपियां क्या है?

सीपिया 200 एक एन्टीसोरिक होम्योपैथिक दवा है।यह दवा भूमध्य सागर में पायी जाने वाली कटलफिस नाम की मछली के ग्रन्थि से निकलने वाली स्याही से तैयार की जाती है।

इस दवा की क्रिया बहुत ही गम्भीर होती है और रोग की गहराई में जाकर रोगी के रोग को जड़ से नष्ट कर देती है।

सामान्य रूप से सीपिया 200 का उपयोग स्त्री रोगों जैसे मासिक धर्म गड़बड़ी, हॉर्मोनल असन्तुलन,रजोनिवृत्ति, गर्भाशय के बाहर निकलने,अवसाद,डिम्बग्रंथि अल्सर,प्रदर,प्री मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम,त्वचा रोग,बालों का झड़ना आदि के इलाज में किया जाता है।

लेकिन लक्षण मिलने पर सीपिया 200 का प्रयोग पुरुष रोगों के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

सीपिया 200 के फायदे | Sepia 200 Benefits in Hindi

मानसिक लक्षण

अत्यंत उदासीनता और विलाप करना सीपिया का सर्वप्रधान लक्षण है।सीपिया रोगिणी का स्वभाव बहुत चिड़चिड़ा होता है।

रोगिणी छोटी-छोटी बातों पर नाखुश हो जाती है, तुच्छ बातों पर रोने लगती है।अपने स्वास्थ्य और भविष्य के बारे में किसी भावी अमंगल की चिंता करती है।

सुबह उठने के बाद उदासीन रहती है।काम-काज में मन न लगना,अपने करीबी लोगों से भी स्नेह न करना,यहाँ तक कि अपने प्रिय सन्तान और पति की भी परवाह नहीं करती है।

जब उससे पूछा जाता है कि तुम्हारी यह मन की अवस्था ऐसी क्यों हो गई है तो वह कहती है कि मैं जनती हूँ कि मुझे अपने पति और संतान से प्रेम करना चाहिए।

पहले मैं उनको प्यार करती भी थी लेकिन अब मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता है।आदमियों और दोस्तों की संगत उसे अच्छा नहीं लगता है।

वह अकेले कमरे में रहना चाहती है परन्तु वह चाहती है कि उसके घर के लोग उसके बगल वाले कमरे में रहें ताकि वह जब चाहे उन्हें बुला सके।

सीपिया रोगिणी बहुत ही जिद्दी स्वभाव की होती है।उसकी बात को काटने पर नाखुश हो जाती है।जरा सा भी शोर-गुल वह पसन्द नहीं करती है।

हमेशा आत्महत्या करने के बारे में सोचती रहती है।वह हर काम में गलतियां किया करती है।उसे भूत प्रेत का डर रहता है।

वह छोटी-छोटी बात पर सबको बुरा-भला कहने लगती है।सीपिया रोगिणी ठंड को सहन नहीं कर सकती है।उसकी सारी तकलीफें ठंड से बढ़ जाती है और परिश्रम करने से कम रहती हैं।

ऊपर बताए गए सभी प्रकार के मानसिक लक्षणों में सीपिया 200 होम्योपैथिक दवा के उपयोग से फायदा होता है।

मासिक धर्म की गड़बड़ी

सीपिया 200 स्त्रियों के मासिक धर्म की गड़बड़ी एवं हार्मोनल असन्तुलन को ठीक करने के लिए एक कारगर होम्योपैथिक दवा है।

इस दवा में मासिक धर्म कभी देर से होता है तो कभी जल्दी हो जाता है लेकिन कभी भी समय पर नहीं होता है।

पीरियड्स आने से पहले पेड़ू और कमर में बहुत तेज दर्द होता है।पीरियड्स कभी कम तो कभी अधिक होता है।

पीरियड्स के दौरान जाड़ा लगना एवं बेहोशी की स्थिति होना आदि लक्षणों में सीपिया 200 फायदा करती है।

मासिक धर्म की समस्या

मासिक धर्म से सम्बंधित हर प्रकार की समस्याओं में सीपिया 200 होम्योपैथिक दवा फायदा करती है।

रजोनिवृत्ति के समय होने वाले हर प्रकार के बदलाव जैसे चिड़चिड़ापन,कमजोरी,धड़कते सिरदर्द,मानसिक अवसाद,बालों का झड़ना आदि लक्षणों में सीपिया 200 होम्योपैथिक दवा के प्रयोग से लाभ होता है।

इसे भी पढ़े

Ruta Graveolens Homeopathic Medicine Uses In Hindi | रूटा ग्रैवियोलेन्स 200 होम्योपैथिक दवा के फायदे

गर्भाशय का बाहर निकलना

गर्भाशय के बाहर निकल पड़ने की अनुभूति में सीपिया होम्योपैथिक मेडिसिन अच्छा का काम करती है।

इस दवा में रोगिणी को पेल्विक क्षेत्र में खींचने तथा नीचे की ओर दबाव के साथ ऐसी अनुभूति होती है मानो योनि के अंदर के सभी अंग बाहर निकल पड़ेंगे।

इसलिए रोगिणी अपने दोनों जांघों को एक के ऊपर एक चढ़कर बैठती है।महिलाओं के गर्भाशय से सम्बंधित इस प्रकार के लक्षणों में सीपिया 200 फायदा करती है।

बांझपन

जिन महिलाओं में मासिक धर्म की अनियमितता, गर्भाशय की सूजन,योनि की खुश्की,अंडाशय में सिस्ट आदि कारणों से यदि बांझपन की समस्या हो जाती है तो उसमें सीपिया 200 होम्योपैथिक दवा फायदा करती है।

योनि की खुश्की

जिन महिलाओं की योनि खुश्क होती है।पति सहवास के समय बहुत दर्द होता है तथा यौन अंगों से खून आता है तो उसमें सीपिया के प्रयोग से लाभ होता है।

डिम्बग्रंथि अल्सर

यह दवा महिलाओं में होने वाले अंडाशय में सिस्ट के इलाज में फायदा करती है।इस दवा में अंडाशय में भारीपन के साथ जलन व चुभन होती है।

इसके अलावा यह दवा पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम एवं हार्मोनल असन्तुलन तथा मासिक धर्म की अनियमितता,बालों का झड़ना,चेहरे पर बाल,मुहासें आदि समस्याओं में भी फायदा करती है।

प्रदर रोग

सीपिया प्रदर रोग के इलाज के लिए एक प्रभावी दवा है।इस दवा में प्रदर का स्राव पीला, पीला-हरा या दूध की तरह सफेद,दुर्गंध युक्त और खाल उधेड़ देने वाला होता है।

जिसके कारण योनि पथ में जलन,खुजली व दर्द होता है।प्रदर का स्राव मासिक धर्म के पहले,सवेरे और दिन के समय ज्यादा होता है।पेशाब जल्दी-जल्दी होता है और पेशाब करने के बाद प्रदर के स्राव बढ़ जाता है।

सिर दर्द

सिर दर्द के लिए सीपिया एक अमोघ औषधि है।इस दवा में रोगी को सिर में बायीं तरफ इतना भयंकर सिर दर्द होता है कि रोगी दर्द से एकदम पागल सा हो जाता है।

रोगी को लगता है कि सिर फट जाएगा।चेहरा तमतमाया हुआ रहता है।रोगी किसी भी तरह की रोशनी या आवाज बर्दाश्त नहीं कर सकता है।

नींद से सिर दर्द कम रहता है लेकिन जैसे ही नींद खुलती है रोगी को फिर से सिर दर्द होने लगता है।किसी काम को करते समय एकाएक सिर में चक्कर आ जाता है।

उपरोक्त प्रकार का सिर दर्द यदि किसी महिला में जरयु कि बीमारी के साथ होता है तो उसमें सीपिया 200 होम्योपैथिक दवा फायदा करती है।

पेशाब की बीमारी

पेशाब की बीमारी में सीपिया 200 फायदा करती है।सीपिया रोगी को बार-बार पेशाब करने की इच्छा होती है।पेशाब करते समय जलन व दर्द होता है।

सीपिया रोगी के पेशाब में इतनी बदबू होती है कि कोई भी व्यक्ति उसके पास खड़ा नहीं रह सकता है।पेशाब थोड़ा और खून के रंग का गंदला होता है।

पेशाब को किसी शीशी या बर्तन में रखने से वह दूध की तरह एकदम सफेद हो जाता है।पेशाब के इस प्रकार के लक्षणों में सीपिया 200 होम्योपैथिक मेडिसिन फायदा करती है।

सीपिया 200 होम्योपैथिक दवा का उपयोग |Sepia 200 Uses in Hindi

वैसे तो चिकित्सा पद्धति में सीपिया का उपयोग प्राचीन काल से होता आ रहा है लेकिन होम्योपैथिक में सीपिया का उपयोग महात्मा हैनिमैन के प्रुविंग के बाद से आरम्भ हुआ।जिसका उपयोग निम्नलिखित बीमारियों के इलाज में किया जाता है।

  1. मानसिक अवसाद
  2. मासिक धर्म से सम्बंधित गड़बड़ी
  3. हार्मोनल असंतुलन
  4. रजोनिवृत्ति सिंड्रोम
  5. गर्भाशय का बाहर निकलना
  6. बांझपन
  7. कामेच्छा में कमी
  8. डिम्बग्रंथि में गांठ
  9. पॉलीसिस्टिक डिम्बग्रंथि सिंड्रोम
  10. ल्यूकोरिया
  11. प्रीमेन्स्ट्रुअल सिंड्रोम
  12. मासिक धर्म के समय होने वाला सिरदर्द
  13. प्रसवोत्तर अवसाद
  14. जननांग में दाद
  15. योनि में सूजन
  16. चेहरे पर बाल
  17. सुबह की बीमारी
  18. कब्ज
  19. बवासीर
  20. वैरिकाज़ नसें
  21. बिस्तर पर पेशाब करना
  22. गुर्दे की पथरी
  23. यूटीआई इंफेक्शन
  24. दाद
  25. सोरायसिस
  26. इक्थियोसिस
  27. पित्ती
  28. झाइयां
  29. मुँहासे
  30. बालों का झड़ना

सीपिया 200 के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

Q• सेपिया का सामान्य नाम क्या है?

Ans• सेपिया का समान्य नाम कटलफिश है।

Q• सेपिया कहां से आता है?

Ans• सेपिया कटलफिश की ग्लैंड से निकलने वाली स्याही से तैयार किया जाता है।

Q• सेपिया ऑफिसिनैलिस कहां रहते हैं?

Ans• सेपिया ऑफिसिनैलिस अटलांटिक महासागर, भूमध्य सागर, उत्तरी और बाल्टिक समुद्र तथा उत्तर-पश्चिमी अफ्रीका के पास के सागर में रहते हैं।

Q• सेपिया ऑफिसिनैलिस किसके लिए प्रयोग किया जाता है?

Ans• सेपिया ऑफिसिनैलिस का प्रयोग स्त्री रोगों जैसे मासिक धर्म गड़बड़ी, हॉर्मोनल असन्तुलन,रजोनिवृत्ति, गर्भाशय के बाहर निकलने,अवसाद,डिम्बग्रंथि अल्सर,प्रदर,प्री मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम,त्वचा रोग,बालों का झड़ना आदि के इलाज में किया जाता है लेकिन लक्षण मिलने पर सीपिया 200 का प्रयोग पुरुष रोगों के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

Leave a Comment