Bryonia Alba 200 Uses in Hindi|ब्रायोनिया अल्बा 200 उपयोग की सम्पूर्ण जानकारी


ब्रायोनिया अल्बा 200 प्लान्ट किंगडम की एक पोलिक्रिस्ट होम्योपैथिक मेडिसिन है।सिर से लेकर पांव तक समस्त अंगों पर इस दवा का असर होता है।यकृत, मस्तिष्क, फेफड़े, सिरस मेम्ब्रेन और फाइब्रस टीशू पर ब्रायोनिया अल्बा 200 की मुख्य क्रिया होती है।


इस दवा की परीक्षा महात्मा हैनीमैन ने स्वंय की थी।
जो लोग देखने में दुबले-पतले होते हैं,जरा सी बात पर गुस्सा हो जाते हैं और जिनके अंदर वात और पित्त की अधिकता होती है।ऐसे प्रकृति वाले व्यक्तियों में Bryonia Alba 200 Uses in Hindi से फायदा होता है।

Bryonia Alba 200 Uses in Hindi

यह दवा सभी उम्र के लोगों की बीमारी में एक समान रूप से फायदा करती है।यह दवा मुख्य रूप से कब्ज,वात रोग ,फेफड़े,किडनी और लिवर से सम्बंधित बीमारी के इलाज में ज्यादा फायदा करती है।

इस दवा का मुख्य असर शरीर के दाहिने अंग पर ज्यादा होता है।इस लिए शरीर के दाहिने अंग में होने वाले रोग लिवर,किडनी,जरायु,वात रोग, फेफड़े का रोग।

सियाटिका,अधकपारी, स्तन में सूजन आदि क्यों न हो यदि शरीर की दायीं तरफ से शुरू हो और उसमें सुई चुभने जैसा दर्द हो तो ऐसे रोगों के इलाज में ब्रायोनिया अल्बा 200 उपयोग से फायदा होता है।

हिलने-डुलने से रोग का बढ़ना इस दवा का एक प्रमुख लक्षण है।

इसे भी पढ़े

कैल्केरिया कार्ब 200 के फायदे एवं उपयोग

ब्रायोनिया अल्बा 200 के लक्षण | Bryonia Alba 200 Symptoms in Hindi

निम्नलिखित लक्षणों में ब्रायोनिया अल्बा 200 होम्योपैथिक दवा के उपयोग से फायदा होता है।

• बैठे हुए स्थिति से उठने पर सिर में चक्कर आना।
• बहुत देर का अंतर देकर एक बार में ज्यादा मात्रा में पानी पीना।
• महिलाओं में मासिक धर्म के बदले नाक से खून आना।
• हमेशा ठंडा पानी पीने की इच्छा रखना।
• सिर दर्द के अलावा सभी प्रकार के दर्द गरम प्रयोग से कम होना।
• प्रलाप में दैनिक कार्यों एवं रोजगार की बातें करना।
• ग्रीष्म ऋतु आते ही पतले दस्त का बढ़ जाना।
• बायां हाथ और बायां पैर हमेशा हिलते रहना।
• हिलने-डुलने से रोग का बढ़ना और विश्राम से रोग में कमी।
• गले में सरसराहट होकर रात में खाँसी का बढ़ जाना।
• दाहिनें तरफ लिवर के स्थान पर सुई चुभने जैसा दर्द होना।
• हमेशा कब्ज बने रहना।
• पेट को छोड़कर और सभी स्थानों का दर्द दबाने से कम होना।
• महिलाओं के दाहिने तरफ के स्तन में सूजन व दर्द होना।
• वात रोग का हमेशा जगह बदलते रहना।
• गर्म कमरे के अंदर और गर्मी में रोगी के तकलीफों का बढ़ना।
• खुली हवा में और ठंडक में रोगी को आराम महसूस होना।
उपरोक्त सभी लक्षणों में Bryonia Alba 200 Use करने से फायदा होता है।

ब्रायोनिया अल्बा 200 उपयोग (Bryonia Alba 200 Uses in Hindi)


निम्नलिखित रोग लक्षणों में ब्रायोनिया अल्बा 200 होम्योपैथिक मेडिसिन के उपयोग से फायदा होता है।

सिर में दर्द

इस दवा में रोगी के सिर का दर्द सूर्योदय के साथ आरम्भ होता है।दोपहर के समय दर्द अपनी चरम सीमा पर होता है।

और उसके बाद सिर दर्द घटना आरम्भ हो जाता है और सूर्यास्त के साथ बिल्कुल घट जाता है। पखाना साफ न होने के कारण होने वाले सिर दर्द में यह दवा फायदा करती है।

नाक से खून आना

रजोधर्म बन्द होकर स्त्रियों के नाक से खून निकलने पर इस दवा के उपयोग से फायदा होता है।

स्त्रियों के स्तनों में सूजन व दर्द

जिन स्त्रियों के स्तनों में सूजन व सुई चुभने जैसा दर्द होता है।वह दर्द चलने-फिरने से बढ़ जाता है।रोगिणी दर्द से बचने के लिए अपने दोनों स्तनों को बाध कर रखती है।

जिससे उसके स्तन हिलने न पाए तो इस प्रकार के लक्षण वाले स्तनों के सूजन व दर्द को दूर करने के लिए ब्रायोनिया अल्बा 200 के प्रयोग से लाभ होता है।

इसे भी पढ़े

Pulsatilla 200 Uses in Hindi

सूखी खांसी

इस दवा में रोगी को दिन-रात सूखी खांसी आती रहती है।रोगी खाँसते-खाँसते बिल्कुल थक जाता है और कुछ भी बलगम नहीं निकलता है।

खाँसते समय दायीं तरफ सीने में सुई चुभने जैसा दर्द होता है।

जिसके कारण रोगी अपने दोनों हाथों से सीने को दबा लेता है।सीने में जिस तरफ दर्द होता है रोगी उसी करवट सीने को दबाकर सोता है।जिससे उसे कुछ आराम मालूम होता है।

गर्म पानी पीने से भी खाँसी में कुछ कमी होती है।सूखी खांसी के इन लक्षणों में इस दवा के उपयोग से फायदा होता है।

लिवर में सूजन व दर्द

इस दवा में रोगी को लिवर के स्थान पर सुई चुभने जैसा दर्द होता है।यह दर्द चलने-फिरने और खाँसने से बढ़ जाता है।

पेट के ऊपरी भाग में हमेशा दर्द बना रहता है।मुँह का स्वाद तीता रहता है।

मल जली हुई ईंट या जली हुई मिट्टी के रंग का सूखा और कड़ा होता है।

इसके अलावा दाहिने कंधे में दर्द आदि लक्षणों में ब्रायोनिया 200 उपयोग से फायदा होता है।

कब्ज

ब्रायोनिया अल्बा कब्ज को दूर करने के लिए एक अमोघ औषधि है।

श्लेष्मिक मेम्ब्रेन के सूखे होने कारण इसमें रोगी का मल सूखा व कड़ा होता है।

रोगी को पखाने जाने की बिल्कुल इच्छा नहीं होती है।जिस कारण रोगी कई-कई दिनों तक पखाने नहीं जाता है।

अतिसार

गरमी के मौसम में या ग्रीष्म ऋतु के पहले खाने-पीने की गड़बड़ी के कारण पतले दस्त आने लगता है।

दस्त सबेरे के वक्त ज्यादा होता है और आँख बंद करके लेटने से दस्त में कमी हो जाती है।

आँख खोलने या चलने-फिरने से दस्त में वृद्धि होने पर ब्रायोनिया अल्बा 200 फायदा करती है।

सूजन

इस दवा का असर शरीर के सभी अंगों पर एक समान रूप से होता है।

इस लिए शरीर के किसी भी अंग में सूजन होने पर जिसमें सुई चुभने जैसा दर्द होता है।

और वह दर्द चलने-फिरने से बढ़ जाता हैऔर सूजन वाली जगह को दबाकर सोने पर दर्द में आराम मिलता है तो उसमें ब्रायोनिया अल्बा 200 से फायदा होता है।

गठिया रोग में

शरीर के किसी भी हिस्से में गठिया का दर्द होने पर जिसमें सूजन वाली जगह लाल व छूने पर गर्म हो,और उसमें सुई गड़ने जैसा दर्द होता हो और वह दर्द चलने-फिरने से बढ़ जाता है तो उसमें ब्रायोनिया 200 फायदा करती है।

बवासीर

यदि किसी रोगी को पेट की खराबी और कब्ज के कारण बबासीर की समस्या होती है तो उसमें ब्रायोनिया अल्बा 200 के उपयोग से फायदे की उम्मीद की जा सकती है।

इसे भी पढ़े

Belladonna 200 uses in hindi

ब्रायोनिया अल्बा 200 के फायदे (Bryonia Alba 200 Benefits in Hindi)


निम्नलिखित बीमारियों में ब्रायोनिया अल्बा फायदा करती है।
• लिवर के सूजन व दर्द में यह दवा फायदा करती है।
• सुई चुभते हुए दर्द में इस दवा के प्रयोग से फायदा होता है।
• रोग चाहे कोई भी हो अगर चलने-फिरने से बढ़ता है तो इस दवा के प्रयोग से फायदा होता है।
• सिर का दर्द जो सूर्योदय और सूर्यास्त के साथ बढ़ता-घटता है तो उसमें इस दवा के प्रयोग से फायदा होता है।
• कमर और सियाटिका का दर्द जो चलने-फिरने से बढ़ता है और स्थिर रहने से कम रहता है तो उसमें ब्रायोनिया अल्बा के प्रयोग से फायदा होता है।
• निमोनिया जिसमें सांस लेने से दायीं तरफ के छाती में सुई गड़ने जैसा दर्द होता है तो उसमें इस दवा के प्रयोग से फायदा होता है।
• महिलाओं में मासिक धर्म बन्द होकर नाक से खून आने पर यह दवा फायदा करती है।
• महिलाओं के स्तनों में सूजन व दर्द रहने पर जिसमें चुभता हुआ दर्द होता है।उसमें यह दवा फायदा करती है।
• कब्ज के कारण होने वाले बबासीर में इस दवा के प्रयोग से फायदा होता है।
• टाइफाइड रोग की पहली अवस्था, जिसमें रोगी बेहोशी में अपने रोजगार और काम धन्धे की बातें करता है उसमें ब्रायोनिया अल्बा 200 फ़ायदा करती है।

ब्रायोनिया अल्बा 200 की मात्रा (Bryonia 200 Dosage in Hindi)

वैसे तो ब्रायोनिया अल्बा 30,200,1M और 10M सभी शक्तियों में फायदा करती है लेकिन यदि आप बबासीर, कब्ज,वात रोग, टाइफाइड बुखार और आधा सीसी के दर्द में उपयोग करना चाहते हैं तो उसमें Bryonia Alba 200 Uses in Hindi से फायदा होता है।

ब्रायोनिया अल्बा 200 होम्योपैथिक मेडिसिन का सेवन कैसे करें?

यदि ब्रायोनिया अल्बा 200 के सेवन की बात की जाय तो,यह व्यक्ति के रोग,उसकी आयु,लिंग और रोग की गम्भीरता पर निर्भर करती है है।

लेकिन सामान्य तौर से इसे 4 से 5 बून्द की मात्रा दिनभर में 2 बार में सीधे जीभ पर या एक चम्मच पानी में मिलाकर करना चाहिए।

ब्रायोनिया अल्बा 200 के नुकसान (bryonia alba 200 side effects in hindi)

ब्रायोनिया अल्बा पेड़-पौधों से बनाई जाने वाली एक पोलिक्रिस्ट होम्योपैथिक मेडिसिन है।इस लिए डॉक्टर द्वारा बताई गई मात्रा में प्रयोग करने से किसी भी प्रकार के साइड इफेक्ट्स होने की सम्भावना नहीं होती है।

भारत में ब्रायोनिया अल्बा 200 की कीमत (Bryonia 200 Price in India)

वैसे तो होम्योपैथिक दवा बनाने वाली कम्पनियां अपनी दवाओं का अपना अलग-अलग कीमत निर्धारित किया करती है।

लेकिन यदि 30 ml की बात की जाय तो यह बाजार में 95 से लेकर 150 रुपये में किसी भी होम्योपैथिक मेडिकल स्टोर पर बहुत ही आसानी से प्राप्त की जा सकती हैं।

यदि आप चाहें तो इसे ऑन लाइन भी ऑर्डर करके मंगा सकते हैं।

ब्रायोनिया अल्बा 200 उपयोग से सम्बंधित सावधानियां (Precaution of Bryonia Alba 200 Uses in Hindi)

ब्रायोनिया अल्बा 200 का उपयोग करने से पहले निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए।
• यदि आप किसी अन्य पैथी की दवा ले रहें हैं तो ब्रायोनिया अल्बा 200 का उपयोग करते समय कम से कम आधे घंटे का अंतराल जरूर रखें।
• गर्भवती महिलाओं को इस दवा का उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
• स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इस दवा के सेवन से पहले अपने डॉक्टर की जरूर ले लेनी चाहिए।
• इस दवा का सेवन करते समय तेज गन्ध वाली चीजों का सेवन नहीं करनी चाहिए।

ब्रायोनिया अल्बा 200 के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)


Q• मुझे ब्रायोनिया अल्बा कब लेना चाहिए?
Ans• आपको ब्रायोनिया अल्बा उन सभी बीमारियों में लेना चाहिए जिसमें हरकत से रोग वृद्धि के लक्षण मौजूद हैं।

Q•होम्योपैथिक ब्रायोनिया किसके लिए प्रयोग किया जाता है?
Ans• होम्योपैथिक ब्रायोनिया का प्रयोग कब्ज,गठिया, लिवर,फेफड़े से सम्बंधित रोग,स्तनों में सूजन आदि को दूर करने के लिए किया जाता है।
Q• मुझे ब्रायोनिया 200 कब लेना चाहिए?
Ans• यदि आप ब्रायोनिया 200 को लेना चाहते हैं तो उसके लिए आपको 4 से 5 बून्द दवा को खाना खाने से आधा घंटा पहले लेना चाहिए।
Q• आप ब्रायोनिया 200 का उपयोग कैसे करते हैं?
Ans• ब्रायोनिया 200 का उपयोग 4 से 5 बूंद की मात्रा में सुबह-शाम करना चाहिए।
Q• क्या ब्रायोनिया अल्बा सुरक्षित है?
Ans•जी हां ब्रायोनिया एल्बा पेड़-पौधों से बनाई जाने वाली होम्योपैथिक मेडिसिन है।इस लिए प्रयोग के लिए विल्कुल सुरक्षित है।

इस लेख में आपने जाना Bryonia Alba 200 Uses in Hindi के बारे में पूरी जानकारी।
यह जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके हमें जरूर बताएं।

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की healthsahayata.inपुष्टि नहीं करता है, इनको केवल सुझाव के रूप में लें, इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Leave a Comment